Custom image

Raj Basha

केन्द्रीय विद्यालय पन्ना (मध्य प्रदेश)

राजभाषा (हिंदी)

1 राजभाषा हिंदी के उत्तरोत्तर विकास के लिए विद्यालय में राजभाषा कार्यान्वयन समिति का गठन किया गया है।समिति की बैठक हरतिमाही के अंत में प्राचार्य की अध्यक्षता में की जाती है ।

2 राजभाषा से संबंधित विभिन्न प्रकार के पत्रों व हिंदी में प्राप्त अन्य पत्रों का उत्तर हिंदी में ही दिया जाता है ।

3 नराकास द्वारा आयोजित प्रत्येक छमाही बैठक में प्राचार्य द्वारा नियमित रूप से भाग लिया जाता है तथा तिमाही व छमाही रिपोर्ट भीप्रस्तुत की जाती है।

4 सभी कर्मचारियों व अध्यापकों को हिंदी का कार्यसाधक ज्ञान प्राप्त है तथा विद्यालय को राजपत्र में अधिसूचित करवा लिया गया है ।सभी अपना कार्य हिंदी में ही संपादित कर रहे हैं ।

5 विद्यालय स्थित सूचनापट्ट, नामपट्ट व सम्मानपट्ट अधिकांशतः हिंदी में ही हैं। कक्षाओं ,विभागों और प्रयोगशालों के नामपट्ट भीद्विभाषी रूप में लगवाए गए हैं। कार्यालय द्वारा प्रयोग में आने वाली सभी रबड़ की मोहरें हिंदी में हैं।

6 लिफाफों पर पते व पत्रशीर्ष भी द्विभाषी रूप में लिखे जाते हैं।

7  फॉर्म, मैनुअल, कोड आदि का अनुवाद केंद्रीय स्तर पर द्विभाषी रूप में होता है ।

8 विद्यालय की वैबसाइट द्विभाषी रूप में है तथा सभी कम्प्यूटरों में  हिंदी फोंट उपलब्ध हैं।

9 वार्षिक प्रकाशन के अंतर्गत विद्यालय पत्रिका व प्राथमिक विभाग से प्रकाशित समाचार पत्र द्विभाषी रूप में छपवाए गए ।

10 पुस्तकालय द्वारा पुस्तकों पर व्यय का पचास प्रतिशत हिंदी पुस्तकों पर व्यय किया गया जिसमें से पच्चीस प्रतिशत वरिष्ठ विभाग वपच्चीस प्रतिशत प्राथमिक विभाग की पुस्तकों पर व्यय किया गया ।

11 सेवा पुस्तिकाओं व रजिस्टरों में सभी प्रविष्टियाँ हिंदी में की जा रही हैं।

12 डाक प्रेषण व प्राप्ति रजिस्टर अंग्रेजी व हिंदी में अलग-अलग बनाया गया है।

13 विद्यालय में प्रवेश हेतु सूचना व अनुबंध आधार पर साक्षात्कार हेतु विज्ञापन आदि भी द्विभाषी रूप में जारी किए जाते हैं ।

14  विद्यार्थियों को दिए जाने वाले प्रमाणपत्र द्विभाषी रूप में लिखे जाते हैं तथा पाठ्य सहगामी क्रियाओं की उद्-घोषणा भी हिंदी में ही कीजाती हैं ।

15  विद्यालय में 14 सितम्बर  से 28 सितम्बर तक हिंदी पखवाड़े का आयोजन किया जा रहा है, जिसके अन्तर्गत कवि सम्मेलन,सुलेख, श्रुतलेख, प्रश्नोत्तरी, भित्तिपत्र प्रदर्शन, स्वरचित कविता लेखन, कहानी लेखन, नाटिका मंचन आदि प्रतियोगिताओं काआयोजन किया जाएगा ।